देवर्षि नारद ने की थी रामायण की रचना में सहायता, वेदों का किया संपादन



बुद्ध पूर्णिमा के एक दिन बाद नारद जयंती मनाई जाती है। देवलोक का दूत कहे जाने वाले देवर्षि नारद, भगवान ब्रह्मा के सात मानस पुत्रों में से एक हैं और भगवान विष्णु के अनन्य भक्त हैं। उन्होंने कठिन तपस्या…



Source link